राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान संस्थान व अन्य संस्थान

  राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान संस्थान व अन्य संस्थान 1. Central Avian Research Institute CARI  — इज्जतनगर (बरेली),उत्तर प्रदेश 2. Central Arid Zone Research-CAZRI — जोधपुर 3. Central Food Technological Research Institute- CFTRI–  मैसूर,कर्नाटक 4. Central Institute of Agricultural Engineering – CIAE– भोपाल,मध्य प्रदेश 5. Central Institute of Post Harvest Technology- CIPHT– लुधियाना, बंजाय 6. Central […]

Continue Reading

फसलों के हानिकारक कीट,कीटों का वर्गीकरण,कीट नियन्त्रण (INSECT PEST CONTROL)

फसलों के हानिकारक कीट फसलों को कीट एवं कीड़ों द्वारा हानि होती है उथा कभी-कभी कोट इतनी हानि पहुंचाते हैं कि फसलों का उत्पादन एक समस्या बन जाती है। कोट अपने जीवनयापन के लिए और खाद्य पूर्ति के लिए पौधों को अपना साधन बनाते हैं। जन्म से लेकर विभिन्न अवस्थाओं में अलग-अलग से पौधों को […]

Continue Reading

खरपतवार की परिभाषाएँ (DEFINITION OF WEEDS),खरपतवारों का वर्गीकरण(CLASSIFICATION खरपतवारों से हानियाँ (LOSEES CAUSED BY WEEDS OR HARMFUL EFFECTS OF WEED) OF WEEDS)

खरपतवार की परिभाषाएँ (DEFINITION OF WEEDS) 1 एक ऐसा पौधा है जो इतनी अधिक मात्रा में उगता है कि अधिक महत्वपूर्ण पोषक गुणों (बैकले 1920)वाले दूसरे पौधे की बढ़वार को रोक देता है” 2. “खरपतवार पौधों को ऐसी जातियों है, जो अवधि रूप में उगती है या जो उपयोगी नहीं है। ये प्राय: प्रचुरता से […]

Continue Reading

भू-सर्वेक्षण [SURVEYING]

  भू-सर्वेक्षण [SURVEYING]   हमारे देश का प्रमुख व्यवसाय कृषि है, अत: देश की समृद्धि के लिए कृषि का उत्पादन बढ़ाना बहुत ही आवश्यक है। उत्पादन बढ़ाने के लिए यह आवश्यक है कि कृषि को नई-नई उन्नत तकनीक को अपनाया जाय और रूढ़िवादी परम्पराओं का त्याग किया जाय। खेती में सिंचाई और नाली मेंड़ आदि […]

Continue Reading

जल निकास और उनके उद्देश्य

जल निकास(DRAINAGE) परिभाषा- अत्यधिक जल की उपस्थिति का पौधों की वृद्धि पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। फालतू पानी के खेत में एकत्रित होने से रत्नावकास में उपस्थित वायु का स्थान पानी से लेता है, जिसके कारण श्वसन में बाधा पड़ती है और पौधे सर भी सकते हैं। अतः अनावश्यक जत को खेत से बाहर निकालना […]

Continue Reading